अब नौकरी की नहीं टेंशन, एपी गोयल शिमला यूनिवर्सिटी और एरुडीओ कंसल्टिंग सर्विसेज के बीच ज्ञापन समझौते पर हस्ताक्षर

बुधवार को एपी गोयल शिमला यूनिवर्सिटी और दिल्ली का एरुडीओ कंसल्टिंग सर्विसेज सूचीबद्ध संगठन तकनीकी व व्यावसायिक प्रशिक्षण व जॉब मुहैया करवाने हेतु एपी गोयल शिमला यूनिवर्सिटी के तकनीकी, प्रबंधन, इंजिनीरिंग, कंप्यूटर, पत्रकारिता, होटल प्रबंधन, फैशन डिजाइनिंग, आर्किटेक्चर में स्नातक व परास्नातक के विद्यार्थियों को सहायता प्रदान करेगा।

इस बारे एपी गोयल शिमला यूनिवर्सिटी और एरुडीओ कंसल्टिंग सर्विसेज के बीच एक ज्ञापन समझौते पर हस्ताक्षर हुए। एरुडीओ कंसल्टिंग सर्विसेज तकनीकी शिक्षा व व्यवसायिक शिक्षा से जुड़ी शैक्षणिक संगठन है जो निःस्वार्थ तकनीकी व व्यवसायिक विषयों में शिक्षित विद्यार्थियों को नौकरी उपलब्ध करवाती है और प्रशिक्षण भी प्रदान करती है ताकि विद्यार्थी सरकारी और गैरसरकारी संगठनों में नौकरी पाने के लिए काबिल हो सकें।

इस ज्ञापन समझौते पर एपी गोयल शिमला यूनिवर्सिटी की ओर से कुलपति प्रोफेसर आर. के. चौधरी और कुलचिव डॉ. ए. के. कायस्थ ने हस्ताक्षर किए और एरुडीओ कंसल्टिंग की ओर से एरुडीओ कंसल्टिंग के सीओ राजीव अग्रवाल ने हस्ताक्षर किए। इस मौके पर एपी गोयल शिमला यूनिवर्सिटी के विभिन्न विभागों के विभागाध्यक्ष, अधिष्ठाता भी मौजूद रहे।

इस अवसर पर एपी गोयल शिमला यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रोफेसर आर. के. चौधरी ने कहा कि यूनिवर्सिटी प्रशासन विद्यार्थियों की जॉब प्लेसमेंट के लिए हमेशा से प्रयासरत रहा है और आगे भी इस प्रयास को जारी रखेंगे ताकि एपीजी शिमला यूनिवर्सिटी से पढ़ा छात्र बेरोजगार न रहे और इसके लिए समय समय पर विद्यार्थियों में स्किल डेवलोपमेन्ट संबंधित आयोजन यूनिवर्सिटी परिसर में करवाए जाते रहे हैं और जॉब फेस्ट आयोजित कर देश की बड़ी आईटी कंपनियों, प्रबंधन व पत्रकारिता से संबंद्ध कंपनीयों व संगठनों को साक्षात्कार हेतु निमंत्रित किया जाता है।

उन्होंने कहा कि बहुत से संस्थानों से विद्यार्थी डिग्रीज तो हासिल कर लेते हैं पर स्किल्स डेवलोपमेन्ट के अभाव में, सही प्रशिक्षण की कमी व मार्गदर्शन के अभाव में पिछड़ जाते हैं। कुलपति ने ये भी कहा कि आज किसी भी वयवसाय में सफल होने के लिए कम्युनिकेशन स्किल्स में प्रशक्षिण बहुत जरूरी है और इसके लिए स्कूली स्तर से ही प्रयास होने चाहिए और हर स्कूल और उच्च शिक्षा संस्थानों में कॉन्सेल्लिंग सेल व मार्गदर्शन सेल स्थापित कर विद्यार्थी अपना स्वरोजगार करें और दूसरों के लिए भी रोज़गार सृजन कर देश ,समाज व राष्ट्र सेवा में योगदान दें।

इस अवसर पर एरुडीओ कंसल्टिंग सर्विसेज के सीओ राजीव अग्रवाल और एपी गोयल शिमला यूनिवर्सिटी के कुलसचिव डॉ. ए. के. कायस्थ ने विद्यार्थियों को जीवन में सफल होने के लिए ईमानदार प्रयास जारी रखने और जॉब प्राप्त करने के टिप्स दिए।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *