अमृतसर-पठानकोट के बीच बनेगा कंट्रोल रूम, पाक की हरकत पर रहेगी नजर

पंजाब में ड्रोन के जरिये पहुंचे हथियारों की बरामदगी के बाद एनआईए ने जांच शुरू कर दी है। साथ ही केंद्र की खुफिया एजेंसियों की जांच में मिले तथ्यों के बाद पंजाब के बॉर्डर के लिए विशेष सिक्योरिटी प्लान बनाने का फैसला किया गया है। इस प्लान के जरिये आईएसआई द्वारा बॉर्डर पर की जाने वाली हरकतों का जवाब दिया जाएगा। एनआईए की जांच में यह बात निकलकर आई कि ड्रोन से इतनी बड़ी मात्रा में पाकिस्तान से हथियार आ सकते हैं तो अब तक कितनी बड़ी मात्रा में नशा आ चुका होगा। अब इन्हीं सब पर रोक लगाने को एयरफोर्स, आर्मी, बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स, रॉ, आईबी, स्टेट इंटेलिजेंस और स्टेट काउंटर इंटेलिजेंस मिलकर काम शुरू कर दिया है।

इसके लिए खुफिया एजेंसियां भी काम करेंगी। इस संबंध में डीजीपी दिनकर गुप्ता ने कहा कि पंजाब में जो हथियार मिले हैं, इसके पीछे पाकिस्तान की एजेंसी आईएसआई का हाथ है। इसी तरह विदेशों में जो पूर्व आतंकी बैठे वे इन घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। इसलिए सभी एजेंसियों ने संयुक्त रूप में इस पर काम शुरू कर दिया है ताकि इन पर पूरी तरह प्रतिंबध लगाया जा सके।

एयरफोर्स, आर्मी, बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स, रॉ, आईबी, स्टेट इंटेलिजेंस और स्टेट काउंटर इंटेलिजेंस जल्द मिनिस्ट्री आॅफ होम अफेसर्य (एमएचए) और मिनिस्ट्री ऑफ डिफेंस के साथ संयुक्त मीटिंग करेंगे। मीटिंग में सभी मुद्दों पर गहनता से विचार पर बॉर्डर एरिया के लिए नया सिक्योरिटी प्लान तैयार किया जाएगा। इस पर केंद्र के निर्देश के अनुसार सभी एजेंसियां काम करेंगी।

यह भी निर्णय लिया गया है कि जमीनी रक्षा के साथ साथ आसमानी सुरक्षा के तहत ड्रोन आदि पर नजर रखने के लिए बॉर्डर एरिया में एक कंट्रोल रूम स्थापित किया जाएगा। यह कंट्रोल रूम पंजाब में पड़ते 545 किलोमीटर से ज्यादा के बॉर्डर एरिया को कवर करेगा। कंट्रोल रूम आसमान में उड़ रही छोटी से छोटी चीज को कैप्चर करने में सक्षम होगा। इसके लिए स्पेशल राॅड लगाए जाएंगे ताकि किसी भी अप्रिया घटना से बचा जा सके।
 पंजाब में सभी बॉर्डर एरिया के थानों को भी आधुनिक हथियारों से लैस किया जाएगा। हालांकि पठानकोट और दीनानगर में हुए फिदायन हमले के बाद बॉर्डर एरिया के थानों को पहले मजबूत करने का निर्णय लिया गया था लेकिन उसके लिए फंड नहीं मिला था। अब एमएचए ने फंड मुहैया करा दिया है। इसलिए अब थानों को हाईटैक बनाने के साथ आधुनिक हथियारों से लैस करना भी शुरू कर दिया गया है।

जहां से ड्रोन के जरिये पहंुचे हथियार मिले  हैं वहां भारत में अटारी ब्लॉक का गांव मावा है। इसे देखते हुए एनआईए ने बॉर्डर एरिया के साथ लगते पाकिस्तान के पांच ठिकानों पर विशेष नजर रखनी शुरू कर दी है। इनमें ओलियापुर (लौहार), जंडियाला (लौहार) तलवंडी और भारत गुरदासपुर में साथ लगते गांव आदि शामिल हैं।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *