आतंकियों की पंजाब में स‍ीरियल ब्‍लास्‍ट की साजिश, निशाने पर नेता, धार्मिक संस्‍थान

आतंकियों की पंजाब में अशांति और खून-खराबा की बेहद खतरनाक साजिश थी। गांव पंडोरी गोला में 4 सितंबर को हुए बम ब्लास्ट मामले में गिरफ्तार आतंकियों के निशाने पर दिव्य ज्योति जागृति संस्थान और निरंकारी भवन भी थे। इसके अलावा पंजाब में कई जगह सीरियल ब्लास्ट करके धार्मिक व राजनीतिक नेताओं को खत्म किए जाने की साजिश रची गई है। इन साजिशों का पता चलने के बाद खुफिया एजेंसियों ने पंजाब सरकार को चौकस रहने को कहा है। एजेंसियों ने आशंका जताई है कि आतंकी  दीवाली या उससे पहले धमाका कर सकते हैैं।

सूत्रों के मुताबिक आतंकियों से पूछताछ में पता चला है कि नवंबर 2016 में अकाली दल के अध्यक्ष व तत्कालीन उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल को बम धमाके में उड़ाने की साजिश अमृतसर के एक धार्मिक स्थान में रची गई थी। इस स्थान पर एकत्र होकर पंजाब में खालिस्तान मूवमेंट चलाने की साजिश रची गई थी।

सुखबीर को निशाना बनाने में अगर कामयाबी मिलती तो पूरे प्रदेश में बम धमाके किए जाते। तरनतारन ब्लास्ट मामले में काउंटर इंटेलीजेंस द्वारा बाबा बलवंत सिंह, अकाशदीप सिंह रंधावा, हरभजन सिंह व बलबीर सिंह को हथियारों और गोला बारूद के साथ गिरफ्तार किया गया था। अब आठ आतंकी गिरफ्तार हो चुके हैैं।

धार्मिक संस्था के माध्यम से जुटाते थे पैसा

पंडोरी गोला बम धमाके के सूत्रधार हरजीत सिंह हीरा निवासी पंडोरी गोला को पंजाब का माहौल बिगाडऩे के लिए विदेश से फंडिंग भी होती रही। हीरा के साथी मानदीप सिंह उर्फ मस्सा निवासी दीनेवाल ने ‘कर भला हो भला’ नामक धार्मिक संस्था बनाई हुई थी। इसके माध्यम से विदेश से धनराशि एकत्र करना आसान हो गया था। दोनों टांगों से दिव्यांग मस्सा पंच भी चुना गया था। 

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *