वन विकास निगम प्रदेश सरकार के कामगारों व उनके परिवारजनो के कल्याण के लिए वचन वद्ध है

वन विकास निगम के उपाध्यक्ष सूरत नेगी ने आज यहां श्रम एवं रोजगार विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम में कहा कि प्रदेश सरकार कामगारों व उनके परिवारजनो के कल्याण लिए वचन वद्ध है । इसी उद्ेश्य से हिमाचल प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कामगार कल्याण बोर्ड का गठन किया गया है ताकि असंगठित क्षेत्र में कार्य कर रहे कामगारो का कल्याण सुनिश्चित हो सके ।


उन्होने ऐसे सभी कामगारजो भवन व अन्य सन्निर्माण कार्यो में सम्मलित है तथा जो पंचायतो द्वारा ऐसे कार्य जैसे मनरेगा/ सरकार के अन्तर्गत कि ये जा रहे भवन/सन्निर्माण मे शामिल है को बोर्ड का सदस्य बनने के लिए आगे आना चाहिए । उन्होने कहा कि ऐसे कामगाार बोर्ड द्वारा आरम्भ किये गये सुविधाओ व योजनाओ का लाभ हासिल कर सकेगे ।


उन्होने बताया कि राज्य सरकार द्वारा ऐसे कामगार जिन्होने बोर्ड की सदस्यता लिये हुए दो माह से अधिक का समय हुआ है उन्हे एक मुश्त प्रोत्साहन के लिए सौलर लम्प, महिला हित दारको को एक साईकल प्रदान की जा रही है । उन्होने कहा कि हितदार को व उनके परिवार के सदस्यों को बोर्ड द्वारा एक बार इन्डक्शन हीटर या एक सौलर कुक्कर प्रदान करने का भी प्रावधान किया गया है ।

सूरत नेगी ने इसअवसर पर 256 कामगारोको निःशुल्क इन्डक्शन हीटर भी प्रदान किये । जिला श्रम एवं रोजगारअधिकारी राजेन्द्र चैहन ने कहा कि भवन एवं अन्य सन्निर्माण कामगार कल्याण बोर्ड द्वारा असंगठित क्षेत्र मे कार्य कर रहे कामगारो के लिए अनेक योजनाएं आरम्भ किये गये है । उन्होने कहा कि दोमाह के सदस्यता के उपरान्त मातृत्व/पितृत्व योजना के अन्तर्गत महिलाला भार्थियांे को प्रसव अवधि के समय 25 हजार रू0 की राशि देय होगी जबकि इसके लिए पुरूष लाभार्थी एक हजार रू0 काह कदार होगा और यह सुविधा दो बच्चों तक देय होगी । उन्होने कहा कि यदि सदस्यों की मृत्यु कार्य के दौरान होती है तो उसके आश्रितों को दो लाख रू0 जबकि प्राकृतिक मृत्यु पर एक लाख रू0 की राशि प्रदान की जाएगी । उन्होने कहा कि यदि किसी सदस्यों की मृत्यु हो जाती है तो उनके आश्रितों को 20 हजार रू0 की राशि प्रदान करने का प्रावधान किया गयाहै।उन्होने कहा कि लाभार्थी और उसके आश्रितों को चिकित्सा उपचार के लिए सरकारीअस्पतालांे या सरकार द्वारा अनुमोदित अस्पतालों में ईलाज करवाने पर व चिकित्सा बिल प्रस्तुत करने पर बाह्रा चिकित्सा उपचार के लिए 10 हजार रू0 प्रति वर्ष तथा अन्तरंग चिकित्सा प्रति पूर्ति के लिए 30 हजार रू0 का प्रावदान किया गयाहेै । उन्होने बताया कि बोर्ड द्वारा अपने सदस्यों के लिए दो बच्चों के पढाई के लिए वित्तीय सहायता प्रदान किये जा रहे है इसके अतिरिक्त दो बच्चों के विवाह के लिए प्रत्येक बच्चा 35 हजार रू0 का प्रावधान किया गया है ।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *