प्रदेश के जरूरतमंद लोगों के लिए दर्द निवारक दवा बन गए हैं हिमाचल के सीएम जयराम ठाकुर। 

 

हिमाचल के पहाड़ी पुत्र ने प्रदेश की 78 लाख जनता के लिए अपने अब तक के सवा 4 साल के संक्षिप्त कार्यकाल में ही अपने काम और योजनाओं को बगैर किसी बाधा के बड़ी सहजता से क्रियान्वित कर लोगों को सीधा लाभ देकर उनका दिल जीत लिया है।

 

एक छोटे से पहाड़ी इलाके से निकल कर प्रदेश की बागडोर संभाल रहे जयराम ठाकुर ने अपनी सरकार में शुरू की गयी योजनाओं से राज्य के अंतिम छोर पर खड़े व्यक्ति की आंसू पोंछकर उसे तंगहाली से निकालकर सुकुन की जिंदगी जीने का अवसर उपलब्ध करवाने का एक सफल प्रयास किया है। इसमें न सिर्फ ग्रामीण अपितु शहरी लोगों को भी अपनी योजनाओं से उन्होंने वो राहतें उपलब्ध कराई जिससे उनके जीवन स्तर में काफी परिवर्तन आया है।

 

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने लगातार प्रदेश के हितों की रक्षा करने व् हिमाचल की संस्कृति और त्योहारों को पुनजीवित करने का कार्य किया है।सीएम जयराम ठाकुर ने सवा 4 सालों में प्रदेश की राजनीतिक बिसात में अपने आप को कमोबेश शतरंज का सबसे माहिर खिलाड़ी साबित करने में कोई कसर बाकी नहीं रखी। हालंकि इस कार्यकाल के दौरान काफी उतार चढ़ाव भी देखने को मिले लेकिन उन सभी बाधाओं से अभी तक पार पाते हुए जयराम ठाकुर आगे बढ़ते चले आये हैं।

 

जयराम ठाकुर ने पहली बार मुख्यमंत्री बनकर ही अपने अबतक के इस कार्यकाल में प्रदेश की गरीब जनता को अपने चिर परिचित शैली की वजह से सीधा लाभ पहुँचाने का कार्य किया है। जिन लोगों के बारे में कोई नहीं सोचता था उन गरीब लोगों के लिए जयराम ठाकुर ने काम करके दिखाया है। तभी आज एक बात उभर कर सामने आ रही है जिसे प्रदेश के लोगों की जुबानी भी सुना जा सकता है “जहां गरीब,वहां जयराम”

 

हिमाचल की संस्कृति को हिमाचल के त्योहारों को प्रदेश की सभ्यता को घर-घर में रोशन करने का कार्य जयराम ठाकुर ने किया है । हिमाचल की पहचान पूरी दुनिया में “हिमाचल की नाटी” के रूप में भी जानी जाती रही है इस बात को भलीभांति समझते हुए सीएम जयराम को जब कभी भी किसी ने नाटी करने का निमंत्रण दिया तो सीएम दो कदम आगे ही बढ़े। इस पर बातें भी हुई लेकिन अपनी संस्कृति अपनी सभ्यता को आगे बढ़ाने का काम ही जयराम ने हमेशा किया।

 

हिमाचल प्रदेश की ठंडी हवाओं में अब उस बदले की राजनीती का अंत भी हो चूका है जो वर्षों से चली आ रही थी। सरकारें बदलती थी तो बदले की राजनीती का प्रकरण भी शुरू हो जाता था। हिमाचल की शान पहडै टोपियों का रंग बदल जाता था। पर सीएम जयराम के मुख्यमंत्री बनने के बाद से ही न तो बदले की राजनीती हुई न ही टोपियों के रंग बदले। जिसने लाल टोपी पहनाई तो हँसते हुए लाल टोपी पहनी,जिसने ह्री टोपी पहनाई तो हँसते हुए हरी टोपी पहनी।

 

अब मेरे प्रदेश की राजनीती बदल चुकी है न तू नीचे का न तू ऊपर का आज पुरे प्रदेश को एक नजर से देखने का काम सीएम जयराम कर रहे हैं। पुरे प्रदेश का समग्र विकास मुख्यमंत्री ने बिना किसी भेदभाव से करने का प्रयास किया है,जो आज से पहले कभी नहीं हुआ।

 

आज हिमाचल प्रदेश के गांव के हालातों का जायजा लेने के उपरांत जो बातें सामने आ रही है उससे वर्तमान समय में हिमाचलियों के मन में सीएम जयराम ठाकुर को लेकर बनी छवि उन्हें एक ईमानदार कर्मठ सफल जनसेवक के रूप में साबित करती है।अपने सवा चार साल के छोटे कार्यकाल में ही जयराम ठाकुर ने ऐसी-ऐसी योजनाएं लागू की जिसकी कामयाबी ने उन्हें हिमाचल की राजनीति का चमकता सितारा बना दिया है।

 

आज उन्ही योजनाओं के लाखों लाभार्थी दिल खोलकर छाती ठोकर बोल रहे हैं जयराम ठाकुर ही गरीबो जरूरतमंदों के लिए सब कुछ हैं । जयराम सरकार की हिमकेयर योजना से आज हिमाचल के लोग 5 लाख तक का फ्री ईलाज करवा रहे हैं तो दूसरी तरफ सहारा योजना से उन हजारो लोगों को जो गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं मुख्यमंत्री ने सहारा देने की कोशिश की है जो आज से पहले कोई नहीं दे पाया।आज 3 हजार रुपए हर महीने उन लोगों को सरकार द्वारा दिए जा रहे हैं।

 

प्रदेश के लोगों को राहत मिले उन्हें बार बार जगह जगह न भटकना पड़े अपनी समस्याओं और शिकायतों का समाधान करवाने के लिए इसलिए पहली बार हिमाचल के इतिहास में मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन और जनमंच जैसी योजनाओं को जयराम ठाकुर ने शुरू किया। इसका नतीजा आज ये हुआ है कि घर बैठे बैठे लाखों लोग अपनी शिकायतों का निवारण करवा रहे हैं। महिलाओं को धुए से राहत दिलाने का काम जयराम ठाकुर ने किया आज 3 लाख से अधिक परिवारों को मुख्यमंत्री गृहिणी योजना से फ्री गैस कनेक्शन दिए जा चुके हैं आज से पहले किसी सरकार ने ये नहीं सोचा। बात करें रोजगार की तो आज हिमाचल के युवाओं को प्रदेश में ही प्राइवेट सेक्टर में रोजगार उपलब्ध करवाने के लिए सफल इन्वेटर मीट करके लाखों करोड़ की इन्वेस्टमेंट प्रदेश में लाने का कार्य पहली बात बने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने करके दिखाया है। आंकड़े भी इस बात के गवाह है कि पिछली सरकार के मुकाबले इस सरकार ने सरकारी विभागों में भी हिमाचल के युवाओं को अधिक रोजगार उपलब्ध करवाया है। आज कुछ भर्तियां जो कोर्ट में फंसी हुई हैं उसकी लड़ाई भी पूरी गम्भरीता से सरकार लड़ रही है ताकि युवाओं को उन भर्तियों में भी जल्द रोजगार मिले।

 

पहली बार मुख्यमंत्री बने जयराम ठाकुर ने कोरोना जैसी विपदा से प्रदेश की जनता को सुरक्षित बचाने का कार्य किया। दो साल कोरोना की भेंट चढ़े लेकिन उसके बाद भी जितना हो सकता था उतना काम जयराम ठाकुर ने करके दिखाया है यही वजह है आज खुद लोग बोल रहे हैं “प्रदेश के जरूरतमंद लोगों के लिए दर्द निवारक दवा बन गए हैं हिमाचल के सीएम जयराम ठाकुर”।

Leave a Reply

Your email address will not be published.