सरकाघाट पुलिस ने धीरज के दोस्त पर हत्या का मामला दर्ज किया,दो अन्य साथी भी संदेह के घेरे में।

सरकाघाट पुलिस ने धीरज के दोस्त पर हत्या का मामला दर्ज किया।दो अन्य साथी भी संदेह के घेरे में।

सरकाघाट पुलिस ने धीरज के दोस्त पर हत्या का मामला दर्ज किया।दो अन्य साथी भी संदेह के घेरे में।

17 दिनों से लापता थडू निवासी धीरज ठाकुर के क्षत विक्षत शव को आज सरकाघाट पुलिस ने बक्कर से बरामद कर लिया।यहां बता दें कि गत 26 अप्रैल को थडू गांव के धीरज ठाकुर पुत्र बलदेव सिंह अपने बहनोई की बाइक पर आईटीआई समीरपुर ज़िला हमीरपुर के लिए पढ़ाई करने के लिए सुबह घर से निकला था और उसके बाद वह आईटीआई न जाकर अपने दोस्तों पारुल पुत्र रविंदर कुमार गांव झड़ियार तथा ढगवानी गांव के अन्य युवक विक्रांत तथा जाहु के प्रिंस के साथ हो गया।और रात को जब धीरज घर नहीं पँहुचा तो उसके पिता बलदेव सिंह ने उसे उसके मोबाइल पर फोन किया। धीरज के पिता के अनुसार उसने बताया कि वह झड़ियार गांव के 19 वर्षीय पारुल पुत्र रविंदर कुमार के साथ उसके घर में ठहरा हुआ है । और उसके बाद उसने अपना मोबाईल बन्द कर दिया।धीरज के पिता द्वारा पुलिस को दिए बयान में कहा है कि उसका लड़का भी नशे का आदी था। और उसके साथ के लड़के पारुल ने उसे ज़बरदस्ती नशा करवाया तथा उसके बाद नशे की ज्यादा डोज़ पिलाने के बाद उसकी मौत हो गई। धीरज के पिता ने अपने बेटे की गुमशुदगी की रिपोर्ट गत 30 अप्रैल को सरकाघाट पुलिस थाने में की थी और उसके बाद जब धीरज का कोई पता नहीं चला तो बलदेव सिंह ने मीडिया का सहारा लिया और उसके बाद पुलिस हरकत में आई तथा पारुल की गतिविधियों पर पुलिस ने गुप्त रूप से नज़र रखी।

गत रात्रि को पुलिस ने पारुल को हिरासत में ले लिया और उसके साथ कड़ी पूछताछ के बाद उसने सच्चाई उगल दी तथा दो अन्य युवकों विक्रांत गांव ड़गवानी और जाहु के प्रिंस के नाम बताए कि वे भी उसके साथ थे और रात को जब उन्होंने चारों ने नशे के इंजेक्शन लगाए तो धीरज ने ओवर डोज़ ले ली और उसकी थोड़ी देर के बाद मौत हो गई। धीरज की मौत को देखकर अन्य तीनों युवक बौखला गए और पहले उसकी बाइक को घर से विपरीत दिशा में मोरतन गांव के साथ लगते नाले में खड़ा किया तथा उसके बाद धीरज के शव को बोरे में लपेट कर नलयाना गांव के नीचे बकर खड्ड में दबा दिया और फिर वे अपने अपने घरों को चले गए।पारुल के बयान पर पुलिस ने तीनों को हिरासत में लिया और उसके बाद पुलिस पारुल को लेकर उस स्थान पर लेकर गई जहां धीरज को दफनाया गया था। पारुल की निशानदेही पर पुलिस ने धीरज के शव को खोद कर निकाला जो सड़ी गली हालत में था। पुलिस के अनुसार शव की हालत इतनी खराब थी कि उन्हें नागरिक अस्पताल सरकाघाट से डॉक्टरों के साथ-साथ मंडी से फोरेंसिक विशेषज्ञों के दल को बुलाया उन्होंने शव को पोस्टमार्टम के लिए मेडिकल कॉलेज नेरचौक भेज दिया वही शव का पोस्टमार्टम होगा।डी एस पी तिलकराज शांडिल्य ने पुष्टि करते हुए बताया कि, पारुल के विरुद्ध हत्त्या का मामला दर्ज कर दिया गया है और आगामी कल उसका पुलिस रिमांड लेने के लिए अदालत में पेश किया जाएगा। जबकि अन्य दोनों युवकों विक्रांत और प्रिंस से पूछताछ की जा रही है। बाकी उन्होंने कहा कि इस घटना को अंजाम देने का क्या मकसद था यह सारा तहकीकात के बाद ही बताया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.