जिलाधीश ने दियोटसिद्ध में की चैत्र मास मेले की तैयारियों की समीक्षा

बाबा बालक नाथ मंदिर दियोटसिद्ध में 14 मार्च से 13 अप्रैल तक लगने वाले वार्षिक चैत्र मास मेले के लिए प्रशासन ने सभी तैयारियां आरंभ कर दी हैं। जिलाधीश एवं बाबा बालक नाथ मंदिर न्यास की आयुक्त देवाश्वेता बनिक ने शुक्रवार को दियोटसिद्ध में पुलिस और विभिन्न विभागों के अधिकारियों तथा बाबा बालक नाथ मंदिर न्यास के गैर सरकारी सदस्यों के साथ बैठक करके मेले की तैयारियों की समीक्षा की।

उन्होंने कहा कि मेले के दौरान सभी प्रबंधों विशेषकर कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए मंदिर परिसर और इसके आस-पास के पूरे क्षेत्र को पांच सैक्टरों में बांटा गया है। इनमें लगभग 150 पुलिस कर्मचारियों और 175 होमगार्डों की तैनाती की जाएगी। जिलाधीश ने कहा कि कोरोना संकट के मद्देनजर इस बार मेले के लिए विशेष प्रबंध किए जा रहे हैं। मंदिर परिसर के आस-पास के सभी मुख्य प्रवेश स्थलों पर थर्मल स्कैनिंग की व्यवस्था की जाएगी। जिलाधीश ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे मंदिर परिसर और अन्य महत्वपूर्ण स्थलों पर स्थापित सभी सीसीटीवी कैमरों की जांच करें। अगर परिसर में कुछ और कैमरों की आवश्यकता महसूस की जा रही है तो उसे भी जल्द पूरा करें। देवाश्वेता बनिक ने अग्रिशमन और जलशक्ति विभाग के अधिकारियों को हाईड्रेंटों का निरीक्षण करने के निर्देश भी दिए।

जिलाधीश ने बताया कि कोरोना संकट को देखते हुए इस बार मंदिर परिसर में निजी लंगर और जागरण की अनुमति नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा कि श्रद्धालुओं को कोरोना के खतरे के प्रति सचेत करने के लिए सभी मुख्य स्थलों पर बैनर लगाए जाएंगे। इनके अलावा खाने-पीने और रोट-प्रसाद की दुकानों के लिए भी विशेष निर्देश जारी किए जा रहे हैं तथा इनका नियमित रूप से निरीक्षण किया जाएगा। मेेले के दौरान मंदिर परिसर प्रतिदिन कम से कम दो बार सेनिटाइज किया जाएगा। मेले के दौरान बिजली, पेयजल, चिकित्सा और अन्य सुविधाओं को सुचारू बनाए रखने को लेकर भी बैठक में व्यापक चर्चा की गई।

देवाश्वेता बनिक ने कहा कि हिमाचल प्रदेश के पूर्ण राज्यत्व के 50 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य पर राज्य सरकार द्वारा दिए गए स्वर्णिम हिमाचल थीम को भी मेले के दौरान प्रदर्शित किया जाएगा। बैठक में एसपी कार्तिकेयन गोकुलचंद्रन, एडीएम जितेंद्र सांजटा, मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष एवं बड़सर के एसडीएम प्रदीप कुमार, होमगार्ड के कमांडेंट सुशील कुमार कौंडल, मंदिर अधिकारी, न्यासी कमल नयन शर्मा, न्यासी नरेश शर्मा और अन्य अधिकारियों ने भी महत्वपूर्ण सुझाव रखे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *