जनमंच में लोगों ने लोक निर्माण और जल शक्ति विभाग के खिलाफ डटकर निकाली भड़ास

15 वर्षों में 15 दिन नहीं पानी -कलियोपाब के ओमीलाल का आरोप

जनमंच में सोशल डिस्टेंसिंग नियम की खूब उड़ाई धज्जियां

भढ़ोली ( राजगढ़ )

भढ़ोली  में आयोजित जनमंच कार्यक्रम  में क्षेत्र के लोगों ने लोक निर्माण और जल शक्ति विभाग के खिलाफ डटकर भड़ास निकाली। रिमझिम बारिश की बंूदें भी  जनमंच में लोगों का उत्साह व हौसला कम  नहीं कर सकी । जनमंच में उमड़ी भीड़ में मंत्री के सामने कोाविड-19 के सोशल डिस्टेंसिंग नियम की खूब धज्जियां उड़ाई गई ।

कोटी पधोग के पूर्व प्रधान अरूण मेहता ने धारटूखाड़ी-धमांदर सिंचाई बारे जेएसवी विभाग को घेरा कि बीते 16 वर्षों से इस योजना का निर्माण कार्य अधर में लटका पड़ा है । जिस पर एसई जेएसवी ने आश्वासन दिया कि आगामी 31 मार्च तक इस कार्य को पूरा कर दिया जाएगा । इसी प्रकार सनौरा- नेरीपुल तथा नेरीपुल -धारटूखाड़ी सड़क की बदहाली को लेकर अरूण मेहता ने लोक निर्माण विभाग की कार्यशैली पर सवाल खड़े कर दिए । इनका कहना कि इस रोड़ अपर शिमला का पूरा सेब देश की विभिन्न मंडियों में पहूंचता है परंतु सड़क की दयनीय हालत के कारण अनेक सेब से लदी गाड़ियां हादसे का शिकार हो जाती है ।

इसी प्रकार कलियोपाब के ओमीलाल ने जल शक्ति विभाग पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनके घर पर 15 वर्ष के अंतराल में 15 दिन भी पानी नहीं आया । इन्होने जल शक्ति विभाग के अधिकारियों की उदासीनता पर कई सवाल खड़े किए। जिस पर मंत्री ने  विभागीय अधिकारियों को आदेश दिए कि एक सप्ताह में इस कार्य को पूरा किया जाए  । पझौता घाटी की चार पंचायतों के लोगों ने नेहरटी भगोट-सरवा- मानवा सड़क का निर्माण बीते करीब 20 वर्षों से न करने पर लोक निर्माण विभाग पर मंत्री के सामने जमकर भड़ास निकाली । इन क्षेत्र से आए प्रधान रूपेन्द्र सिंह, शमशेर, चेतराम, भूपेन्द्र ने कहा कि यह रोड़ वर्ष 1960 का बना है और आजतक किसी भी सरकार ने इसकी कोई सुध नहीं ली। लोगों ने मंत्री के सामने यहां तक बोल दिया कि रासूमांदर क्षेत्र के लोगों को साथ बहुत भेदभाव किया जा रहा है । इसी प्रकार माटल बखोग , टाली  भुज्जल क्षेत्र के लोगों ने कहा कि लोक निर्माण विभाग द्वारा उनके संपर्क सड़कोें की मुरम्मत नहीं की जा रही है जिससे लोगों को काफी परेशानी पेश आ रही है और विभागीय अधिकारियों ने  कई बार 31 मार्च पूरा करने  का आश्वासन दिया परंतु कई सालों से 31 मार्च आया ही नहीं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *